मध्यप्रदेश

अद्भुत मंदिर: साल में सिर्फ एक बार ही खुलते हैं पट, आज रात 12 बजे से होगी शुरुआत

-उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के शीर्ष पर नागचंद्रेश्वर मंदिर में विराजित है प्राचीन व दुर्लभ प्रतिमा

अद्भुत मंदिर: साल में सिर्फ एक बार ही खुलते हैं पट, आज रात 12 बजे से होगी शुरुआत
-उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के शीर्ष पर नागचंद्रेश्वर मंदिर में विराजित है प्राचीन व दुर्लभ प्रतिमा
उज्जैन. देश के 12 ज्योतिलिंगों में शामिल उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के शीर्ष पर स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट मंगलवार रात 12 बजे से 24 घंटे के लिए खुल जाएंगे। 15 अगस्त की रात 12 बजे तक दर्शन होंगे। इसके बाद एक साल के लिए पट फिर से बंद हो जाएंगे। यह ऐसा अदï्भुत मंदिर है जिसके पट केवल नागपंचमी पर ही 24 घंटे के लिए खुलते हैं।
नागपंचमी पर नागचंद्रेश्वर की त्रिकाल पूजा होगी। 14 अगस्त को रात 12 बजे पट खुलने व पूजन के बाद दर्शनार्थियों का प्रवेश शुरू हो जाएगा। शासकीय पूजा नागपंचमी पर दोपहर 12 बजे होगी। शाम को भी आरती की जाएगी। इसके बाद रात 12 बजे नागचंद्रेश्वर की आरती के बाद पट बंद होंगे।
11वीं शताब्दी की प्रतिमा, नाग आसन पर विराजित हैं भगवान शिव-पार्वती
नागचंद्रेश्वर मंदिर में 11वीं शताब्दी की अदï्भुत प्रतिमा के दर्शन होते हैं। शेषनाग के आसन पर विराजित शिव-पार्वती की सुंदर प्रतिमा के दर्शन कर श्रद्धालु स्वयं को धन्य मानते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। ऐसी मान्यता है कि नागपंचमी के दिन खुद नागदेव मंदिर में मौजूद रहते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close