Dewas Live
देवास की ख़बरें सबसे विश्वसनीय सबसे तेज़

विदेश नीति में जटिलताएं पैदा कर रही राजग सरकार, अलग-थलग पड़ा भारत: राहुल

कलबुर्गी (कर्नाटक), प्रेट्र। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को राजग सरकार पर आरोप लगाया कि वह देश की विदेश नीति में जटिलताएं पैदा कर रही है और भारत क्षेत्र में अलग-थलग पड़ गया है। चीन के बढ़ते प्रभाव का जिक्र करते हुए राहुल ने कहा कि भारतीय विदेश नीति की सबसे बड़ी खासियत अन्य देशों के साथ अच्छे संबंध बनाना रही है।

चार दिवसीय 'जनआशीर्वाद यात्रा' के अंतिम दिन उद्यमियों और पेशेवरों को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि क्षेत्र में चीन अपनी उपस्थिति का बड़े पैमाने पर विस्तार कर रहा है। नेपाल, श्रीलंका, पाकिस्तान, मालदीव और म्यांमार तक में चीन की मौजूदगी है। वहीं, पश्चिमी हिस्से में मौजूद पड़ोसियों के साथ भारत का पुराना दोस्त रूस मेलजोल बढ़ा रहा है। इन परिस्थितियों में चीन के साथ प्रतिस्पर्धा के लिए भारत को आक्रामक या सैन्य तरीका नहीं, बल्कि शांतिपूर्ण तरीका अपनाना चाहिए।

अब विदेश नीति पर सरकार को घेरेंगे राहुल यह भी पढ़ें

चीन प्रतिदिन सृजित कर रहा 50 हजार रोजगार और भारत सिर्फ 450

भारत को चीन की तरह ज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजित करने की दिशा में कार्य करना चाहिए। कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि चीन 24 घंटे में 50 हजार रोजगार सृजित कर रहा है जबकि देश की राजग सरकार 24 घंटे में सिर्फ 450 रोजगार सृजित कर पाती है। हालांकि उन्होंने माना कि कांग्रेस नीत संप्रग सरकार भी उतने रोजगार सृजित नहीं कर पाई जितनी जरूरत थी। आर्थिक वृद्धि को लेकर राहुल ने कहा कि भारत की स्थिति ठीकठाक है, लेकिन पहले स्थिति कहीं ज्यादा अच्छी थी।

जीएसटी की सिर्फ एक दर (18 फीसद) होनी चाहिए थी

पहले की तुलना मे अब पूरी तरह से बादल चुकी है भारत की विदेश नीति यह भी पढ़ें

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस अगर केंद्र की सत्ता में लौटी तो वह जीएसटी को आसान बनाएगी। उन्होंने कहा, 'हमारा विचार टैक्स की एक दर (18 फीसद) रखने और गरीबों व आम आदमी द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली ज्यादातर वस्तुओं को जीएसटी के दायरे से बाहर रखने का था। यह हमारा जीएसटी था।'

कर्नाटक में कांग्रेस के लिए अनुकूल वातावरण

संवाददाताओं से बातचीत में राहुल ने कहा कि कर्नाटक में उनकी पार्टी के लिए काफी अनुकूल वातावरण है। इस यात्रा के दौरान उन्होंने लाखों लोगों से मुलाकात की और उनके साथ अच्छी बातचीत हुई।

By Bhupendra Singh

Original Article