Dewas Live
देवास की ख़बरें सबसे विश्वसनीय सबसे तेज़

कर्नाटक : BJP सासंद के ‘खूनखराबे’ वाले बयान पर कांग्रेस सख्त, कार्रवाई की मांग

शोभा करनलाजे (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. BJP सासंद के ‘खूनखराबे’ वाले बयान पर कांग्रेस सख्त
  2. कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने की कार्रवाई की मांग
  3. शोभा करनलाजे ने दिया था 'खूनखराबे' वाला बयान

बेंगलुरु: कर्नाटक में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियां एक दूसरे पर हमलावर हैं. दोनों पार्टियां एक दूसरे पर हमला करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रही हैं. इसका ताजा उदाहरण शोभा करनलाजे का वो बयान है, जिसमें उन्होंने कहा, "अगर बहमनी सुल्तानों की जयंती मनाई गई तो राज्य भर में खूनखराबा होगा." कर्नाटक के गुलबर्गा से कांग्रेस विधायक और राज्य के मौजूदा चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. शरण प्रकाश पाटिल ने हाल ही में कहा था कि गुलबर्गा में "बहमनी उत्सव" भी मनाया जाएगा. शोभा करनलाजे ने इसी पर प्रतिक्रिया देते हुए "खूनखराबे" वाली बात कही.
यह भी पढ़ें: मणिशंकर अय्यर के 'पाकिस्तान प्रेम' पर भड़के कांग्रेस नेता हनुमंत राव, पार्टी से निष्कासित करने की मांग
तनातनी वाले इस चुनावी माहौल में जब कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार को खूनखराबे वाली धमकी का पता चला, तो वो अपना आपा खो बैठे. उन्होंने कहा कि शोभा करनलाजे परेशानी खड़ी करने वाली महिला है. मैं बीजीपी से आग्रह करता हूं कि वो इस असामाजिक तत्व के खिलाफ कार्रवाई करे. जब एनडीटीवी ने डॉ. शरण प्रकाश पाटिल से इस बारे में पूछा तो उनका कहना था"गुलबर्गा और इसके आस-पास के इलाके में राष्ट्रकूट और बहमनी साम्राज्य का प्रभाव अब भी दिखता है. इसलिए कन्नड़ भाषा, संस्कृति विभाग राष्ट्रकूट और बहमनी उत्सव 4 से 6 मार्च को मनाने जा रहा है, जोकि कला और संस्कृति की झांकी पेश करेगी."
VIDEO: राहुल गांधी को गिफ्ट की गई मूर्ति पर सवाल
राष्ट्रकूट एवं बहमनी उत्सव 4 से 6 मार्च के बीच गुलबर्गा में मनाया जाएगा. जिला प्रशासन 4 और 5 को राष्ट्रकूट उत्सव और 6 तारीख को बहमनी उत्सव मनाने की तैयारी कर रहा है. राष्ट्रकूट 6ठी से 10वीं सदी तक और बहमनी 15वीं से 17वीं सदी में देश के दक्षिण पश्चिमी इलाके में सत्तासीन था.इससे पहले येदियुरप्पा के उस ट्वीट की वजह से दोनों पार्टियां आपस में भिड़ गई, जिसमें उन्होंने राहुल गांधी पर आरोप लगाया कि वो चिकन खाकर कोप्पल में कनकचला नरसिम्हा स्वामी मंदिर में दर्शन के लिए गए थे.
Original Article