Dewas Live
देवास की ख़बरें सबसे विश्वसनीय सबसे तेज़

पवन हंस हेलीकॉप्टर हादसा: लापता यात्रियों की तलाश तेज, पांच शवों की पहचान हुई

पवन हंस हेलीकॉप्टर हादसा: लापता यात्रियों की तलाश तेज, पांच शवों की पहचान हुई शनिवार मुंबई के तट पर नौसेना के दुर्घटनाग्रस्त हुए हेलीकॉप्टर के लापता दल के सदस्यों के खोच अभियान को तेज कर दिया गया है।

मुंबई,पीटीआइ। शनिवार मुंबई के तट पर नौसेना के दुर्घटनाग्रस्त हुए पवन हंस हेलीकॉप्टर के लापता दल के सदस्यों के खोज अभियान को तेज कर दिया गया है। हादसे के समय इस हेलीकॉप्टर ने दो पायलट और ओएनजीसी के सात अधिकारी मौजूद थे। हेलीकॉप्टर ने मुंबई से सुबह करीब 10 बजकर 20 मिनट पर उड़ान भरी थी।

अब तक 5 लोगों के शव बरामद

नौसेना और कोस्ट गार्ड ने कल बताया था कि पांच लोगों के शव बरामद कर लिए गए हैं। अग्रिम नामक आईसीजे के जहाज ने अरब सागर से पंकज गर्ग नामक एक यात्री का शव सहित शव बरामद किया था। हेलीकॉप्टर पर सवार ओएनजीसी के अधिकारियों की पहचान सर्वननन, वी.के. बाबू, जोश एंटनी, गर्ग और पी. श्रीनिवासन के रूप में हुई है, और ये सभी उपमहाप्रबंधक थे। पवन हंस के दो पायलटों की पहचान अभी जाहिर नहीं हो पाई है।

खोज अभियान में तेजी

नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि फ्रिगेट आईएनएस टेग भारतीय तटरक्षक (आईसीजी), जहाज समुद्र प्रहारी अचूक और एग्रीम के साथ मिलकर दो फास्ट इंटरसेप्टर क्राफ्ट, आईएनएस तारासा घटनास्थल में लापता दल के सदस्यों की खोज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कारवार से आईएनएस मकर भी खोज के प्रयासों को बढ़ाने के लिए घटनास्थल पर पहुचंने वाला है। आईसीजीएस सम्राट भी मुंबई से खोज और बचाव अभियान में शामिल होने के लिए रवाना किया गया है। इसके अलावा, क्षेत्र में खोज के लिए दमन, आईसीजी डोर्नियर, 42 बी से शिकारा और नौ ओएनजीसी वासल्स भी तैनात किए गए हैं। प्रवक्ता ने कहा कि समुद्र सेवक पोत की गोताखोरी टीम खोज करने की तैयारी कर रही है, जबकि आईएनएस टेग की टीम को स्टैंडबाय पर रखा गया है। पवन हंस लिमिटेड ने एक बयान में कहा है कि हेलिकॉप्टर दुर्घटना की जांच हो रही है।

शनिवार सुबह हेलीकॉप्टर ने भरी थी उड़ान

पवन हंस हेलीकॉप्टर में तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) के पांच अधिकारी थे, जिनमें तीन स्तर के उप महाप्रबंधक शामिल हैं। ओएनजीसी के नार्थ फील्‍ड की ओर जा रहे पवन हंस हेलीकॉप्‍टर का शनिवार को एयर ट्रैफिक कंट्रोल से संपर्क टूट गया था। VT-PWA रजिस्‍ट्रेशन नंबर वाला डॉफिन एन3 ने सुबह 10.25 बजे जुहू एयरोड्रम से उड़ान भरी थी जिसे सुबह 11 बजे मुंबई हाई ऑयल रिग पर चॉपर को लैंड होना था। नेवी ने सक्रियता दिखाते हुए लापता हेलीकॉप्‍टर की खोज के लिए दो हेलीकॉप्‍टरों को तुरंत तैनात कर दिया था।

उस समय हेलीकॉप्टर मुंबई तट से समुद्र में लगभग 55 किलोमीटर दूर उड़ रहा था, जो अधिकारियों को ओएनजीसी के बम्बई हाई ऑयलफील्ड्स पहुंचाने के लिए एक नियमित उड़ान पर था। बंबई हाई यहां से उत्तरपश्चिम में 175 किलोमीटर की दूरी पर है।

यह भी पढ़ें:महाराष्‍ट्र नाव हादसा: लापता स्‍कूली बच्‍चों के लिए जारी है तलाशी अभियान

By Arti Yadav Original Article